Posted by Nalin Mehra on 12:14 PM

Uski Har "Ada" pe hum apni jaan lutate rahe,
Uski Shaqsiyat ko karke buland hum khudko mitate rahe,
Raahe-e-mohobbat me hamne kuch yun paya sila wafa ka,
woh dete rahe zakhm pe zakhm aur ham muskurate rahe

apni muskurahaton ko uski hansi me milate rahe,
uske har gam ko apni aankhon se bahate rahe,
dete rahe usko khushiyaan do jahan ki,
bas apne hissay har gam likhwate rahe

udake neend apni aankhon se uske khwaab sajate rahe,
khoke chain din ka usay qarar pahuchate rahe,
nibhate nibhate mohhobbat jab maan liya usay apna,
bas usi pal se woh har lamha hame thukraate rahe

Uski mohobbat me ham apni abroo lutate rahe
jhukte rahe ham aur woh hame aur jhukate rahe,
Sar-e-baazar banake tamasha meri mohobbat ka,
Woh duniya bhar ke saath chok pe muskuraate rahe.....

Posted by Nalin Mehra on 12:25 PM

Aaj na jane kyun mere zehen me ek khayaal aaya,
Apni shaqsiyaat se juda ek sawal aaya,

Kya khoya hai maine aur is zindagi se kya paaya,
Main hun koi shaqs mukaammal ya hun kisi ka sarmaya,

Chandni raat me kabhi jugnu sa hun jagmagaya,
Kabhi din ki roshni me jaise koi andhera saaya,

Kisi ki mohobbat ke saaye me zindagi ka ilm paaya,
Kisi ke ishq ne mujhe mukammal insaan banaya

Safar-e-ishq me phir ek mod aisa aaya,
Zindagi ke halataon ne kisi ko bewafa banaya,

Fanah huyi muskurahat aur aaunsuon ka sailaab aaya,
Sailaab ne mohobbat ke aashiyane ka wajood mitaya

Toofan ke baad zindagi ne phir apni raftaar ko paaya,
Waqt ke marham se mohobbat ka zakhm bhar aaya

Kisi ki bewafai ka ehsaas aaj phir mujhe yaad aaya,
Tumko dekha toh yeh khayaal aaya..

Posted by Nalin Mehra on 9:04 AM

किसी के इंतजार में ही दिल का करार है,
किसी की बस एक झलक में ही सारा संसार है,
किसी की एक मुस्कराहट से खुशियाँ हज़ार है.
शायद इसी का नाम तोह प्यार है

किसी की खामोशी में बातें हज़ार है,
किसी की झुकी पलकों में हया बेशुमार है,
किसी का ज़िक्र दिल सुनना चाहे बार बार है,
शायद इसी का नाम तोः प्यार है,

किसी की शरारत से दिल को करार है,
किसी की एक छुअन से सिरहन बेशुमार है,
शायद इसी का नाम तोः प्यार है,

किसी की महक से दिल गुलज़ार है,
किसी की हर बात पे ऐतबार है,
किसी के लौट आने का 'नलिन' को इंतजार है,
शायद इसी का नाम तोः प्यार है.....

ROMAN HINDI VERSION OF THE POEM

Kisi ke intezaar me hi dil ka qarar hai,
Kisi ki bas ek jhalak me hi sara sansar hai,
Kisi ki ek muskurahat se khushiyan hazar hai,
Shayad Isi Ka Naam Toh Pyaar Hai

Kisi ki khamoshi me baatein hazar hai,
Kisi ki Jhuki palkon me haya beshumar hai.
kisi ka zikr dil sunna chahe baar baar hai,
Shayad isi ka naam toh pyaar hai,

Kisi ki shararat se dil ko qarar hai,
Kisi ki ek chhuan se sirhan beshumar hai
Kisi ke dard me roye dil zar zar hai,
Shayad Isi Ka Naam Toh Pyaar Hai

Kisi ki mehak se dil gulzaar hai,
Kisi ki har baat pe aitbaar hai,
Kisi ke laut aane ka 'Nalin' ko intezaar hai,
Shayad Isi Ka Naam Toh Pyaar hai....


Nalin - The Lost Poet

Posted by Nalin Mehra on 2:06 PM

मुस्कुराये जब वो तोः सारी कायनात हंसा करती है,
पड़े उसके कदम जहाँ वो जगह जन्नत हुआ करती है,
दिल के सागर में एहसासों की एक लहर उठा करती है,
मेरी बदमाशियों पे जब वो "उफ़" कहा करती है

जो मुड़के देख ले बस एक नज़र तोः ज़िन्दगी थमा करती है,
उसके हर कदम की आहट पे ऋतुएं बदला करती है,
मेरे बिखरे से लफ्जों की ग़ज़ल बना करती है,
सुनके मेरे काफिये जब वो "उफ़" कहा करती है,

जब भी मिल जाए वो तोः खुशियाँ इनायत करती है,
अपनी प्यारी बातों से मन को छुआ करती है,
मेरी ज़िन्दगी की रहगुज़र को मंजिल मिला करती है,
सुनके मेरी दास्तान-ए-ज़िन्दगी जब वो "उफ़" कहा करती है,


खुदा ही जाने यह कैसी जुस्तुजू साथ मेरे हुआ करती है,
जितना रहता हूँ दूर उससे उतना ही वो मेरे करीब हुआ करती है,
यह कैसी कशिश उसके लफ्जों में हुआ करती है,
ज़िन्दगी से होती है मोहोब्बत जब वो "उफ़" कहा करती है.

नलिन

Posted by Nalin Mehra on 3:47 AM

वो अक्सर मद्धम मद्धम सा मुस्कुराया करती है,
शरारत भरी आंखों से मुझे छेड़ जाया करती है,
सताके मुझे जब वो अपना प्यार जताया करती है,
न जाने क्यूँ मुझे उससे मोहोब्बत हो जाया करती है,

देख के मुझे वो अक्सर मुस्कुराया करती है,
झील सी गहरी आंखों से कुछ कह जाया करती है,
हँसते हँसते जब वो झूठ मूठ का रूठ जाया करती है,
न जाने क्यूँ मुझे उससे मोहोब्बत हो जाया करती है,

जब कभी वो उदास हो जाया करती है,
अपनी आंखों से मोती बरसाया करती है,
फिर सुनके मेरी कोई बेवकूफी वो हंस जाया करती है,
न जाने क्यूँ मुझे उससे मोहोब्बत हो जाया करती है,


कभी करती है बातें बड़ों सी और कभी बच्ची बन जाया करती है,
अपनी अदाओं से वो अक्सर मुझे रिझाया करती है,
आंखों में छुपाके मोहोब्बत जब लबों से इंकार कर जाया करती है,
न जाने क्यूँ मुझे उससे मोहोब्बत हो जाया करती है,

नलिन

English Version
Woh Aksar Maddham Sa Muskuraya Karti Hai,
Sharart Bhari Aankhon Se Mujhe Ched Jaya Karti Hai,
Satake Mujhe Jab Woh Apna Pyar Jataya Karti Hai,
Na Jane Kyun Mujhe Ussay Mohobbat Ho Jaya Karti Hai

Dekh Ke Mujhe Woh Aksar Muskuraya Karti Hai,
Jheel Si Gehri Aankhon Se Kuch Keh Jaya Karti Hai,
Hanste Hanste Jab Woh Jhooth-Mooth Ka Rooth Jaya Karti Hai,
Na Jane Kyun Mujhe Ussay Mohobbat Ho Jaya Karti Hai

Jab Kabhi Woh Udaas Ho Jaya Karti Hai,
Apni aankhon Se Moti Barsaya Karti hai,
Phir Sunke Meri Koi Bewakufi Woh Hans Jaya Karti Hai,
Na Jane Kyun Mujhe Usse Mohobbat Ho Jaya Karti Hai,

Kabhi Karti Hai Baatein badon Si Aur Kabhi Bacchi Ban Jaya Karti Hai,
Apni Adaon Se Woh Aksar Mujhe Rijahaya Karti Hai,
Aankhon Me Chupake Mohobbat Jab Labon Se Inkaar Kar Jaya Karti Hai,
Na Jane Kyun Mujhe Ussay Mohobbat Ho Jaya Karti Hai.

Nalin - The Lost Poet

Posted by Nalin Mehra on 12:17 AM

Hi Friends,
Im putting some of my shayries (couplets) which i wrote about two years back, when i initially started writing poems and stuff... although these shayries are not that perfect and beautiful but still they are close to my heart as I began with these shayaires... hope you will love it too.

1. पल-पल जोड़ के ज़िन्दगी का इस रिश्ते को बनाया है,
हर पलछिन में तेरी यादों को सजाया है,
फिर पता नही क्या खता हुई मुझसे,
जो तुमने फासलों का फरमान सुनाया है,

pal-pal jod ke zindagi ka is rishtey ko banaya hai,hal palchin me teri yaadon ko sajaya hai,phir pata nahi kya khata hui mujhse,jo tumne faaslon ka farmaan sunaya hai.

2. ज़िन्दगी के मायने ख़ुद से समझे नही जाते,
ख़ुद से ज़िन्दगी के फलसफे दिए नही जाते,
अक्सर "कोई और" सिखाता है हमें ज़िन्दगी जीना,
बस यह "कोई और" तुम क्यों नही बन जाते।

zindagi ke mai-nay khud se samjhe nahi jaate,
khud se zindagi ke falsafe diye nahi jaate,
aksar "koi aur" sikhata hai hame zindagi jeena,
bas yeh "koi aur" tum kyu nahi ban jaate

3. तुम्हारी ज़िन्दगी का हर गम हर आंसू चुरा लेना चाहता हूँ,
तुम्हारे होटों को मुस्कराहट और दिल को सुकूं देना चाहता हूँ,
तुम्हरी हर बुरी याद आजाये हिस्से मेरे,और मेरी हर खुशी मिल जाए तुम्हे,
बस यही दुआ करना चाहता हूँ।

tumhari zindagi ka har gam har aansu chura lena chahta hun,
tumhare hoton ko muskurahat aur dil ko sukun dena chahta hun,
tumahri har buri yaad aa jaye hissay mere,
aur meri har khushi mil jaaye tumhe bas yahi dua karna chahta hun

4. अश्कों से भरी आंखों ने हमसे यह सवाल कर लिया,
की हुई क्या वजह जो हमने उन्हें इतना दर्द दिया,
हम थे कितने मजबूर यह उन्हें समझा न सके,
इसलिए झुका के सर हर गुनाह कुबूल कर लिया

ashkon se bhari uski aankhon ne hamse yeh sawal kar liya,
ki hui kya wajah jo hamne unhe itna dard diya,
ham thay kitne majboor yeh unhe samjha na sake,
isliye jhuka ke sir har gunah kubul kar liya।

5. पूछा किसी ने हमसे की कौन है आप हमारे,
जवाब देने से पहले नैन भर आए हमारे,
सोचा के करे जी भर के तारीफ तुम्हारी,
फिर बस मुस्कुरा के रह गए चुप, सोचा कहीं नज़र न लग जाए तुम्हे हमारी।

puccha kisi ne hamse ki kaun hai aap hamare,
jawab dene se pehle nain bhar aaye hamare,
socha ke kare jee bhar ke tareef tumhari,
phir bas reh gaye muskura ke, socha kahin nazar na lag jaye tumhe hamari


6. तोः आज फिर इस दिल को दर्द दे इतना की मुझे सुकून न आए,
इतने ज़ख्म दे मुझे की तेरी बेवफाई का दर्द हल्का पड़ जाए,
इस पर भी रह जाए साँसे बाकि मुझे में,
तोः कह दे बेवफा मुझे दिल से ताकि यह दर्द-ऐ-मोहोब्बत का सिलसिला ख़त्म हो जाए।

toh aaj phir is dil do dard de itna ki mujhe sukun na aaye,
itne zakhm de mujhe ki teri bewafai ka dard halk pad jaaye,
is par bhi reh jaaye saansein baaki mujhe me,
to keh de bewafa mujhe dil se taaki dard-e-mohobbar ka silsila khatm ho jaaye.

7. तेरी मुस्कुराती आंखों से रोशन है दुनिया मेरी खुदा न करे इनमे गम का एक भी आंसू आए,
है यही दुआ आज खुदा से की तेरे हिस्से का हरेक आंसू मेरी आंखों से बह जाए।

teri muskurati aankhon se roshan hai duniya meri khuda na kare inme gam ka ek bhi ansu aaye,
haai aaj dua khuda se ki tere hissay ka harek aansu meri aankhon se beh jaaye.

8. अक्सर तन्हाई में आपकी याद आ जाती है,
बनकर आंसू हमारी आंखों से बह जाती है,
नलिन कैसा अजब है यह एहसास ,
आंसुओं के साथ होटों पर एक मुस्कान आ जाती है।

aksar tanhai me aapki yaad aa jati hai,
bankar aansu hamari aankhon se beh jaati hai,
nalin kaisa ajab hai yeh ehsaas,
aansuon ke saath hoton par ek muskaan aa jaati ahi.

9. मेरी मुस्कराहट को मेरी खुशी न समझना के हँसना मेरी मजबूरी है,
खामोशी को मेरी बेवफाई न समझना , प्यार के सफर में येह छुपी ज़रूरी है।

meri muskurahat ko meri khushi na smajhna ke hansna meri majboori hai,
khamoshi ko meri bewafai na samajhna, pyar ke safar me yeh chuppi zaroori hai

10. तन्हाई में बसी है यादें कई,
मेरी खामोशी में है बातें कई,
सुन पता अगर खामोशियाँ कोई,
तोः जान पता की इस दिल में है उदासियाँ कई,

tanhai me basi hai yadein kai,
meri khamoshi me hai baatein kai,
sun paat agar koi khamoshiyon koi
,to jaan pata ki is dil me hai udassiyan kai

11. तेरी आंखों में जैसे एक जन्नत सी है,
तेरे लफ्जों में जैसे एक कशिश सी है,
ऐसा लगता है "नलिन" को,
जैसे तेरे अक्स में खुदा की महक सी है।

teri aankhon me jaise ek jannat si hai,
tere lafzon me jaise ek kashish si hai,
aisa lagta hai "nalin" ko,
jaise tere aksa me khuda ki mehek si hai.

Posted by Nalin Mehra on 5:56 PM



Hi My Blog Readers,
Since the day i saw "Ghajini" of Aamir Khan, there was one shayri which just occupied my mind, to me it was like incomplete composition just like the incomplete romance of Sanjay Singhania of "Ghajini" and it was poking my creative mind continuosly. so i thought to complete this "Shayri" and here's what I wrote... Please have a look at it and let me know your reactions & comments on this attempt of mine

The Original Ghajini Shayari
"बस एक हाँ के इंतज़ार में रात यूँ ही गुज़र जायेगी,
अब तोः बस उलझन है साथ मेरे नींद कहाँ आएगी,
सुबह की किरण जाने कोनसा संदेश लाएगी,
रिमझिम सी गुनगुनायेगी या प्यास अधूरी रह जायेगी......"

Original Roman Hindi Version
"bas ab ek haan ke intezaar me raat yunhi guzar jaayegi,
ab toh bas uljhan hai saath mere neend kahan aayegi,
Subah ki kiran na jaane konsa sandesh laayegi,
rimjhim is gungunayegi ya pyaas adhuri reh jaayegi"










NOW................. MY VERSION OF THE POEM.....(FULL VERSION)

बस एक हाँ के इंतज़ार में रात यूँ ही गुज़र जायेगी,
अब तोः बस उलझन है साथ मेरे नींद कहाँ आएगी,
सुबह की किरण जाने कोनसा संदेश लाएगी,
रिमझिम सी गुनगुनायेगी या प्यास अधूरी रह जायेगी

अब तोः बस सारी रात उसकी यादें आएगी,
हर गुज़रते पल में उसकी बातें आएगी,
उसकी शरारतें मेरे चेहरे मुस्कराहट लाएगी,
मेरी आँखें उसकी झील सी आंखों में डूब जायेगी,

उसकी बातें किसी मीठी धुन की तरह कानो में घुल जायेगी,
उसकी मासूम हँसी सुकूं की तरह दिल में उतर जायेगी,
मेरी साँसों में वो बनके खुशबु बस जायेगी,
मेरी नींद में भी ख्वाब बनके वो आएगी,

जो आया मोहोब्बत का पैगाम तोः यह ज़िन्दगी संवर जायेगी,
ज़िन्दगी के इस सफर को एक मंजिल मिल जायेगी,
अगर हुई रुसवाई तोः ज़िन्दगी कुछ ऐसी हो जायेगी,
जिंदा रहूँगा में पर ज़िन्दगी ख़तम हो जायेगी,

अब तोः खुदा जाने या मेरा साजन की मेरी मोहोब्बत क्या रंग लाएगी,
है उम्मीद की चाँद सितारों सी आसमान में मुकम्मल हो जायेगी,
जो हुई सच्ची तोः मोहोब्बत मेरी कुछ ऐसा असर कर जायेगी,
मेरी प्यार भरी "गुजारिशें" उन्हें कुबूल हो जायेगी.........

- नलिन


Roman Hindi Version of The Poem

bas ab ek haan ke intezaar me raat yunhi guzar jaayegi,
ab toh bas uljhan hai saath mere neend kahan aayegi,
Subah ki kiran na jaane konsa sandesh laayegi,
rimjhim is gungunayegi ya pyaas adhuri reh jaayegi

ab toh bas saari raat uski yaadein aayegi,
har guzarte pal me uski hi baatein aayegi,
uski shararatein mere chehre pe muskurahat laayegi,
meri aankhein uski jheel si aankhon me doob jaayegi

uski baatein kisi meethi dhun ki tarah kano me ghul jaayegi,
uski masoom si hansi sukun ki tarah dil me utar jaayegi,
mere sanson me woh banke khushbu bas jaayegi,
meri neend me bhi khwab banke woh aayegi

jo aaya mohobbat ka paigam to yeh zindagi sawar jaayegi,
zindagi ke is safar ko ek manzil mil jaayegi,
agar hui ruswai toh zindagi kuch aisi ho jayegi,
zinda rahunga me par zindagi khatam ho jaayegi,

ab toh khuda jaane ya mera sajan ki meri mohobbat kya rang layegi,
Hai ummed ke Chand aur sitaaron si aasman me mukammal ho jaayegi,
jo hui sacchi to mohobbat meri kuch aisa asar kar jaayegi,
Meri Pyar bhari "guzarishein" unhe kubool ho jaayegi........

Nalin The Lost Poet..

Posted by Nalin Mehra on 11:35 AM

It was one fine sunday evening, i was just messing up with my computer and suddenly a ping sound scared the hell out of me, it was gtalks mesg buzz. It was frm my friend, he got a girl & was planning to get engaged & was looking for some astro prediction. I dnt want to come across as some 'BABAJI' with face full of beard, astrology is just my hobby. Anyways he got answers to his question, but my weirdo mind got me trapped in 'saath phere' & 'shaadi'. My better half (my weirdo mind) asked me why is marriage neccesary? As people infected by bollywood fever say, " yeh do dilon ka sangam hai", i had a confusing stand on this but before i would hv reached to any conclusion, my phone beeped & it showed a SMS which concluded my thoughts & my weirdo mind got d answer. The SMS stated,"Every man should get married some time; after all, happiness is not the only thing in life!! "

Posted by Nalin Mehra on 12:01 AM

yun tanha tanha chale jaa rahe ho,
zindagi se ho khafa ya hampe naarazgi jata rahe ho,
jaante ho hamein aadat hai tumhari muskurahaton ki,
isliye hoke udaas hame tadpaaye jaa rahe ho

zara dekh bhi lo ek nazar hamri taraf,
yun pher ke chehra kyu dil dukhaye jaa rahe ho,
nibhai hai hamne mohobbat har pal tumse,
phir kyun hamein bewafa kahe jaa rahe ho,

zamana to leta hai imtehaan har mohobbat ka,
par tum to zamane se bhi zaalim huye jaa rahe ho,
jaante ho ki tut ke bikharna toh fitrat hai is dil ki,
phir bhi isay thes pahuchaye jaa rahe ho

main toh hairaan hun tumahri ada-e-Qatl par,
khud dete ho zakhm aur khud hi dawa lagaye jaa rahe ho,
karke wada sath chalne ka umr bhar,
na jane kyun aaj tum is mod pe tanha kiye jaa rahe ho..

यूँ तनहा तनहा चले जा रहे हो,

ज़िन्दगी से हो खफा या हमपे नाराज़गी जता रहे हो,
जानते हो हमें आदत है तुम्हारी मुस्कुराहटों की,
इसलिए होके उदास हमें तडपाये जा रहे हो,

ज़रा देख भी लो एक नज़र हमारी तरफ़,

यूँ फेर के चेहरा क्यूँ दिल दुखाये जा रहे हो,
निभाई हमने मोहोब्बत हर पल तुमसे,
क्यू फिर हमें बेवफा कहे जा रहे हो,

ज़माना तोः लेता है इम्तेहां हर मोहोब्बत का,
पर तुम ज़माने से भी जालिम हुए जा रहे हो
जानते हो की टूट के बिखरना तोः फितरत है दिल की,
फिर भी इसे ठेस लगाये जा रहे हो,

मैं तोः हैरान हूँ तुम्हारी अदा-ऐ-कत्ल पर,
ख़ुद देते हो ज़ख्म और ख़ुद दवा लगाये जा रहे हो,
करके वादा साथ चलने का उम्र भर,
न जाने क्यूँ आज तुम इस मोड़ पे तन्हा किये जा रहे हो......


Nalin - The Lost Poet

Posted by Nalin Mehra on 11:27 PM

काश होते हम भी किसी के दिल का सुकूं,
काश हम भी किसी के दिल का करार होते,
खिलती किसी के लबों पे मुस्कान हमारे नाम के ज़िक्र से,
काश किसी की आंखों का हम इंतज़ार होते,

शाम ढले कोई ताकता राह हमारी भी,
काश हम भी किसी किसी के दिल में रहते,
हाथों मैं हमारे भी होता हाथ किसी का,
काश हम भी किसी की निगाहों में बसते,

हर सुबह कोई उठता देख के चेहरा हमारा,
काश हम भी किसी का सूरज होते,
होती जब सावन की पहली बारिश,
काश हम भी किसी की यादों मैं होते,

काश वो समझते दिल की बातें हमारी,
तो हम यह ग़ज़ल कभी न लिखते,
और जो लिखते कोई ग़ज़ल,
तो मोहोब्बत को "काश" न कहते.........

नलिन

Posted by Nalin Mehra on 9:59 AM

Hi My Blog Readers,

Last night I saw a beautiful advertisement on television, it stars Asin (from "Ghajini")। The advertisement is conceptulised so beautifully that I cant express it in words, All i can say is that I FELL IN LOVE AFTER WATCHING THIS ONE....




Poetically Yours
Nalin - The Lost Poet

Search