Posted by Nalin Mehra on 9:04 AM

किसी के इंतजार में ही दिल का करार है,
किसी की बस एक झलक में ही सारा संसार है,
किसी की एक मुस्कराहट से खुशियाँ हज़ार है.
शायद इसी का नाम तोह प्यार है

किसी की खामोशी में बातें हज़ार है,
किसी की झुकी पलकों में हया बेशुमार है,
किसी का ज़िक्र दिल सुनना चाहे बार बार है,
शायद इसी का नाम तोः प्यार है,

किसी की शरारत से दिल को करार है,
किसी की एक छुअन से सिरहन बेशुमार है,
शायद इसी का नाम तोः प्यार है,

किसी की महक से दिल गुलज़ार है,
किसी की हर बात पे ऐतबार है,
किसी के लौट आने का 'नलिन' को इंतजार है,
शायद इसी का नाम तोः प्यार है.....

ROMAN HINDI VERSION OF THE POEM

Kisi ke intezaar me hi dil ka qarar hai,
Kisi ki bas ek jhalak me hi sara sansar hai,
Kisi ki ek muskurahat se khushiyan hazar hai,
Shayad Isi Ka Naam Toh Pyaar Hai

Kisi ki khamoshi me baatein hazar hai,
Kisi ki Jhuki palkon me haya beshumar hai.
kisi ka zikr dil sunna chahe baar baar hai,
Shayad isi ka naam toh pyaar hai,

Kisi ki shararat se dil ko qarar hai,
Kisi ki ek chhuan se sirhan beshumar hai
Kisi ke dard me roye dil zar zar hai,
Shayad Isi Ka Naam Toh Pyaar Hai

Kisi ki mehak se dil gulzaar hai,
Kisi ki har baat pe aitbaar hai,
Kisi ke laut aane ka 'Nalin' ko intezaar hai,
Shayad Isi Ka Naam Toh Pyaar hai....


Nalin - The Lost Poet

Search