Posted by Nalin Mehra on 3:47 AM

वो अक्सर मद्धम मद्धम सा मुस्कुराया करती है,
शरारत भरी आंखों से मुझे छेड़ जाया करती है,
सताके मुझे जब वो अपना प्यार जताया करती है,
न जाने क्यूँ मुझे उससे मोहोब्बत हो जाया करती है,

देख के मुझे वो अक्सर मुस्कुराया करती है,
झील सी गहरी आंखों से कुछ कह जाया करती है,
हँसते हँसते जब वो झूठ मूठ का रूठ जाया करती है,
न जाने क्यूँ मुझे उससे मोहोब्बत हो जाया करती है,

जब कभी वो उदास हो जाया करती है,
अपनी आंखों से मोती बरसाया करती है,
फिर सुनके मेरी कोई बेवकूफी वो हंस जाया करती है,
न जाने क्यूँ मुझे उससे मोहोब्बत हो जाया करती है,


कभी करती है बातें बड़ों सी और कभी बच्ची बन जाया करती है,
अपनी अदाओं से वो अक्सर मुझे रिझाया करती है,
आंखों में छुपाके मोहोब्बत जब लबों से इंकार कर जाया करती है,
न जाने क्यूँ मुझे उससे मोहोब्बत हो जाया करती है,

नलिन

English Version
Woh Aksar Maddham Sa Muskuraya Karti Hai,
Sharart Bhari Aankhon Se Mujhe Ched Jaya Karti Hai,
Satake Mujhe Jab Woh Apna Pyar Jataya Karti Hai,
Na Jane Kyun Mujhe Ussay Mohobbat Ho Jaya Karti Hai

Dekh Ke Mujhe Woh Aksar Muskuraya Karti Hai,
Jheel Si Gehri Aankhon Se Kuch Keh Jaya Karti Hai,
Hanste Hanste Jab Woh Jhooth-Mooth Ka Rooth Jaya Karti Hai,
Na Jane Kyun Mujhe Ussay Mohobbat Ho Jaya Karti Hai

Jab Kabhi Woh Udaas Ho Jaya Karti Hai,
Apni aankhon Se Moti Barsaya Karti hai,
Phir Sunke Meri Koi Bewakufi Woh Hans Jaya Karti Hai,
Na Jane Kyun Mujhe Usse Mohobbat Ho Jaya Karti Hai,

Kabhi Karti Hai Baatein badon Si Aur Kabhi Bacchi Ban Jaya Karti Hai,
Apni Adaon Se Woh Aksar Mujhe Rijahaya Karti Hai,
Aankhon Me Chupake Mohobbat Jab Labon Se Inkaar Kar Jaya Karti Hai,
Na Jane Kyun Mujhe Ussay Mohobbat Ho Jaya Karti Hai.

Nalin - The Lost Poet

1 comments:

priya said...

fabulous..!!!

Search