Posted by Nalin Mehra on 12:17 AM

Hi Friends,
Im putting some of my shayries (couplets) which i wrote about two years back, when i initially started writing poems and stuff... although these shayries are not that perfect and beautiful but still they are close to my heart as I began with these shayaires... hope you will love it too.

1. पल-पल जोड़ के ज़िन्दगी का इस रिश्ते को बनाया है,
हर पलछिन में तेरी यादों को सजाया है,
फिर पता नही क्या खता हुई मुझसे,
जो तुमने फासलों का फरमान सुनाया है,

pal-pal jod ke zindagi ka is rishtey ko banaya hai,hal palchin me teri yaadon ko sajaya hai,phir pata nahi kya khata hui mujhse,jo tumne faaslon ka farmaan sunaya hai.

2. ज़िन्दगी के मायने ख़ुद से समझे नही जाते,
ख़ुद से ज़िन्दगी के फलसफे दिए नही जाते,
अक्सर "कोई और" सिखाता है हमें ज़िन्दगी जीना,
बस यह "कोई और" तुम क्यों नही बन जाते।

zindagi ke mai-nay khud se samjhe nahi jaate,
khud se zindagi ke falsafe diye nahi jaate,
aksar "koi aur" sikhata hai hame zindagi jeena,
bas yeh "koi aur" tum kyu nahi ban jaate

3. तुम्हारी ज़िन्दगी का हर गम हर आंसू चुरा लेना चाहता हूँ,
तुम्हारे होटों को मुस्कराहट और दिल को सुकूं देना चाहता हूँ,
तुम्हरी हर बुरी याद आजाये हिस्से मेरे,और मेरी हर खुशी मिल जाए तुम्हे,
बस यही दुआ करना चाहता हूँ।

tumhari zindagi ka har gam har aansu chura lena chahta hun,
tumhare hoton ko muskurahat aur dil ko sukun dena chahta hun,
tumahri har buri yaad aa jaye hissay mere,
aur meri har khushi mil jaaye tumhe bas yahi dua karna chahta hun

4. अश्कों से भरी आंखों ने हमसे यह सवाल कर लिया,
की हुई क्या वजह जो हमने उन्हें इतना दर्द दिया,
हम थे कितने मजबूर यह उन्हें समझा न सके,
इसलिए झुका के सर हर गुनाह कुबूल कर लिया

ashkon se bhari uski aankhon ne hamse yeh sawal kar liya,
ki hui kya wajah jo hamne unhe itna dard diya,
ham thay kitne majboor yeh unhe samjha na sake,
isliye jhuka ke sir har gunah kubul kar liya।

5. पूछा किसी ने हमसे की कौन है आप हमारे,
जवाब देने से पहले नैन भर आए हमारे,
सोचा के करे जी भर के तारीफ तुम्हारी,
फिर बस मुस्कुरा के रह गए चुप, सोचा कहीं नज़र न लग जाए तुम्हे हमारी।

puccha kisi ne hamse ki kaun hai aap hamare,
jawab dene se pehle nain bhar aaye hamare,
socha ke kare jee bhar ke tareef tumhari,
phir bas reh gaye muskura ke, socha kahin nazar na lag jaye tumhe hamari


6. तोः आज फिर इस दिल को दर्द दे इतना की मुझे सुकून न आए,
इतने ज़ख्म दे मुझे की तेरी बेवफाई का दर्द हल्का पड़ जाए,
इस पर भी रह जाए साँसे बाकि मुझे में,
तोः कह दे बेवफा मुझे दिल से ताकि यह दर्द-ऐ-मोहोब्बत का सिलसिला ख़त्म हो जाए।

toh aaj phir is dil do dard de itna ki mujhe sukun na aaye,
itne zakhm de mujhe ki teri bewafai ka dard halk pad jaaye,
is par bhi reh jaaye saansein baaki mujhe me,
to keh de bewafa mujhe dil se taaki dard-e-mohobbar ka silsila khatm ho jaaye.

7. तेरी मुस्कुराती आंखों से रोशन है दुनिया मेरी खुदा न करे इनमे गम का एक भी आंसू आए,
है यही दुआ आज खुदा से की तेरे हिस्से का हरेक आंसू मेरी आंखों से बह जाए।

teri muskurati aankhon se roshan hai duniya meri khuda na kare inme gam ka ek bhi ansu aaye,
haai aaj dua khuda se ki tere hissay ka harek aansu meri aankhon se beh jaaye.

8. अक्सर तन्हाई में आपकी याद आ जाती है,
बनकर आंसू हमारी आंखों से बह जाती है,
नलिन कैसा अजब है यह एहसास ,
आंसुओं के साथ होटों पर एक मुस्कान आ जाती है।

aksar tanhai me aapki yaad aa jati hai,
bankar aansu hamari aankhon se beh jaati hai,
nalin kaisa ajab hai yeh ehsaas,
aansuon ke saath hoton par ek muskaan aa jaati ahi.

9. मेरी मुस्कराहट को मेरी खुशी न समझना के हँसना मेरी मजबूरी है,
खामोशी को मेरी बेवफाई न समझना , प्यार के सफर में येह छुपी ज़रूरी है।

meri muskurahat ko meri khushi na smajhna ke hansna meri majboori hai,
khamoshi ko meri bewafai na samajhna, pyar ke safar me yeh chuppi zaroori hai

10. तन्हाई में बसी है यादें कई,
मेरी खामोशी में है बातें कई,
सुन पता अगर खामोशियाँ कोई,
तोः जान पता की इस दिल में है उदासियाँ कई,

tanhai me basi hai yadein kai,
meri khamoshi me hai baatein kai,
sun paat agar koi khamoshiyon koi
,to jaan pata ki is dil me hai udassiyan kai

11. तेरी आंखों में जैसे एक जन्नत सी है,
तेरे लफ्जों में जैसे एक कशिश सी है,
ऐसा लगता है "नलिन" को,
जैसे तेरे अक्स में खुदा की महक सी है।

teri aankhon me jaise ek jannat si hai,
tere lafzon me jaise ek kashish si hai,
aisa lagta hai "nalin" ko,
jaise tere aksa me khuda ki mehek si hai.

3 comments:

Frequent Reader said...
This comment has been removed by a blog administrator.
Amitsingh Kushwah said...

Hi, Aapaka Blog Padhakar bahut accha laga. aapaki lekhani vakai dil ko chune vali hai. mere blog par aapaka swagat hai.
www.specialcitizenindia.blogspot.com
- Amit Sing, Indore.
M. 093009-39758

P.N. Subramanian said...

आपकी सभी रचनाएँ सुन्दर हैं. क्या हमें "पलछिन" का सही अर्थ समझायेंगे. बहुत दिनों से उत्सुक हूँ.

Search